Connect with us

टिहरी जिले को मिली बड़ी उपलब्धि, इस मामले में पाया प्रदेश में पहला स्थान…

उत्तराखंड

टिहरी जिले को मिली बड़ी उपलब्धि, इस मामले में पाया प्रदेश में पहला स्थान…

उत्तराखंड में टिहरी जिले को बड़ी उपलब्धि मिली है। बताया जा रहा है कि विगत 3 वर्षों के लक्ष्यों के सापेक्ष उपलब्धि की समीक्षा करते हुए माह अप्रैल-अगस्त 2023 तक रैंकिंग संकेतकों, योजनाओं की समीक्षा की गयी। जिसमें रैंकिंग के अनुसार  टिहरी को प्रथम स्थान, उधमसिंह नगर को द्वितीय तथा देहरादून तृतीय स्थान मिला है।

मिली जानकारी के अनुसार राज्य स्तरीय बीस सूत्री कार्यक्रम समिति की अध्यक्षता में अर्थ एवं संख्या निदेशालय, नैशविला रोड स्थित कार्यालय के सभागार में ज्योति प्रसाद गैरोला, उपाध्यक्ष, आयोजित समीक्षा बैठक सम्पन्न हुई। जिसमें अर्थ एवं संख्या के जनपदीय अधिकारियों, मण्डलीय अधिकारियों तथा मुख्यालय के अधिकारियों का परिचय प्राप्त किया गया। बीस सूत्री कार्यक्रम की अनुश्रवण कार्यप्रणाली का प्र्रस्तुतिकरण करते हुए विगत 3 वर्षों के लक्ष्यों के सापेक्ष उपलब्धि की समीक्षा करते हुए माह अप्रैल-अगस्त 2023 तक रैंकिंग संकेतकों, योजनाओं की समीक्षा की गयी।

यह भी पढ़ें 👉  लोकसभा चुनाव को लेकर प्रशासन अलर्ट, रखी जाएगी कड़ी नजर…

रैंकिंग के अनुसार जनपद टिहरी द्वारा प्रथम स्थान, उधमसिंह नगर द्वारा द्वितीय स्थान तथा देहरादून तृतीय स्थान पर रहे है। प्रथम स्थान प्राप्त जनपद को उपाध्यक्ष द्वारा बधाई दी गयी तथा सभी जनपदों को अवगत कराया गया कि आगामी 4 माहों में उनके द्वारा जनपदों का भ्रमण कर अनुश्रवण बैठकें आयोजित की जायेंगी। इस दौरान अपेक्षा की गयी कि सभी जनपद व विभागाध्यक्ष आगामी माहों में सभी कार्यक्रमों में ‘ए’ श्रेणी प्राप्त करने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे।

यह भी पढ़ें 👉  फास्टैग केवाईसी सहित बदल गए ये नियम, जानें आप पर क्या पड़ेगा असर…

प्रस्तुतिकरण के अनुसार 33 मदों की राज्य स्तर पर रैंकिंग की जा रही है जिसमें से माह अगस्त 2023 तक 25 मदें ‘ए’ श्रेणी 5 मदें ‘बी’ श्रेणी 2 मदें ‘सी’ तथा 1 मद ‘डी’ श्रेणी में वर्गीकृत है। जेसी चन्दोला, शोध अधिकारी बीस सूत्री कार्यक्रम द्वारा प्रत्येक जनपद की योजनावार रैंकिंग, ग्रेड तथा बीस सूत्री कार्यक्रम के अन्तर्गत वर्ष के दौरान माध्यमिक व प्राथमिक शासकीय विद्यालयों में किए जा रहे स्थलीय सत्यापन/मूल्यांकन की प्रगति का प्रस्तुतिकरण दिया गया। माह सितम्बर 2023 से सर्वेक्षण का कार्य प्रारम्भ किया गया था। याद्रच्छिक आधार पर चयनित 1170 विद्यालयों में से 430 विद्यालयों में सर्वेक्षण कार्य किया जा चुका है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड न्यायिक सेवा सिविल न्यायाधीश परीक्षा का रिजल्ट जारी…

बैठकों में विकासखण्डवार सूचनाओं का भी मूल्यांकन किए जाने से अवगत कराया गया ताकि बीस सूत्री कार्यक्रम में पिछड़ रहे विकासखण्ड़ों का भी गहन अनुश्रवण किया जा सके। योजनाओं का रैंकिंग अनुश्रवण विकासखण्डवार कराये जाने के निर्देश दिए गए। उपाध्यक्ष द्वारा कतिपय जनपदों के द्वारा किए गए सत्यापन के अनुसार विद्यालयों के असंरचनात्मक सुविधा के साथ-साथ बालिकाओं हेतु पृथक शौचालय निर्माण तथा शौचालयों में साफ सफाई की व्यवस्था की जानकारी प्राप्त की तथा सुझाव दिया गया कि अभिभावक अध्यापक समितियों के माध्यम से विद्यालयों में साफ सफाई की व्यवस्था पर विचार किया जाय।

Latest News -
Continue Reading
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in उत्तराखंड

उत्तराखंड

उत्तराखंड

ट्रेंडिंग खबरें

To Top