Connect with us

मरणोपरांत बहादुर बेटी का पुरस्कार लेने पहुंचे पिता तो हर आंख हुई नम…

उत्तराखंड

मरणोपरांत बहादुर बेटी का पुरस्कार लेने पहुंचे पिता तो हर आंख हुई नम…

उत्तराखंड के लिए आज जहां एक और गर्व का पल था तो वहीं हर आंख नम थी ये माहौल था दिल्ली का, जी हां प्रदेश की बेटी सविता कंसवाल को मरणोपरांत “तेनजिंग नोर्गे राष्ट्रीय साहस पुरस्कार-2022” से सम्मानित किया गया। बताया जा रहा है कि नई दिल्ली में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू द्वारा सविता के पिताजी राधेश्याम कंसवाल जी को यह सम्मान दिया गया। बेटी के लिए जब एक पिता सम्मान ले रहा था तो पूरा परिवार रो रहा था। हर आंख नम थी।

यह भी पढ़ें 👉  ऐतिहासिक श्री झंडेजी मेले का इस दिन होगा शुभारंभ, तैयारियां तेज…

बताया जा रहा है कि राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने मंगलवार को दिल्ली में पर्वतारोही स्वर्गीय सविता कंसवाल को मरणोपरांत “तेनजिंग नोर्गे राष्ट्रीय साहस पुरस्कार-2022” से सम्मानित किया है। बता दें कि एवरेस्ट विजेता सविता कंसवाल द्रौपदी का डांडा (डीकेडी) हिमस्खलन त्रासदी में जान गंवाने वाली बेटियों के लिए हमेशा प्रेरणा बनी रहेंगी। विपरीत परिस्थितियों के बीच सविता ने कड़े संघर्ष से अपनी पहचान बनाई और 12 मई 2022 को माउंट एवरेस्ट व इसके ठीक 16 दिन बाद माउंट मकालू पर्वत (8463 मीटर) पर सफल आरोहण किया। इस राष्ट्रीय रिकॉर्ड को बनाने वाली सविता पहली भारतीय महिला थी। लेकिन वह इतनी जल्दी दुनिया को अलविदा कह गई।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड क्रांति दल ने की 4 लोकसभा प्रत्याशियों की घोषणा, जानें कौन कहां से लड़ेगा चुनाव…

बता दें कि सविता उत्तरकाशी के गांव लौंथरु की निवासी थी। आज उनकी बहादुरी के लिए उनके स्वजन उनकी मां कमलेश्वरी देवी और पिता राधेश्याम कंसवाल को “ मरणोपरांत देश की राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मु के द्वारा तेनजिंग नोर्गे नेशनल एडवेंचर अवार्ड” से सम्मानित किया गया । राष्ट्रपति से पुरस्कार लेने पहुंचे परिवार की आंखों में आंसू थे। बूढ़े पिता जब अवॉर्ड ले रहे थे तो हर किसी की निगाहें उनकी मां और बहन पर थीं, जिनकी आंखों से झर-झर आंसू बह रहे थे।

यह भी पढ़ें 👉  UPSC ने इस भर्ती परीक्षा को किया स्थागित, बताई जा रही ये वजह…

Latest News -
Continue Reading
Advertisement

More in उत्तराखंड

उत्तराखंड

उत्तराखंड

ट्रेंडिंग खबरें

To Top