Connect with us

चमोली के दो भाईयों की मेहनत लाई रंग, किवी की खेती ने बदल दी किस्मत…

उत्तराखंड

चमोली के दो भाईयों की मेहनत लाई रंग, किवी की खेती ने बदल दी किस्मत…

Uttarakhand News: सफल होने की इच्छाशक्ति रखना अक्सर किसी के लक्ष्यों को प्राप्त करने की कुंजी होती है। आज की दुनिया में, कई सरकारी योजनाएं और पहल हैं जिनका उद्देश्य व्यक्तियों को उनके प्रयासों में समर्थन देना है, लेकिन अंततः, इन अवसरों का लाभ उठाना और उनका अधिकतम लाभ उठाना व्यक्ति पर निर्भर है। यह बात चमोली जिले के सुदूर गांव कलचुना के दो भाइयों भगवती और भानु के मामले में स्पष्ट है।

अपनी चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों के बावजूद, भगवती और भानु ने उल्लेखनीय दृढ़ संकल्प और इच्छाशक्ति का प्रदर्शन किया। उन्होंने कीवी की खेती में निवेश करने के लिए शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर चमोली जिला सहकारी बैंक लिमिटेड से ₹300,000 का ऋण लिया। इससे पहले वे अरुणाचल और भवाली में कीवी खेती का प्रशिक्षण ले चुके हैं। उनके प्रयास और समर्पण रंग लाए और अब उन्हें अपनी कड़ी मेहनत का लाभ मिल रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंड में यहां इन दो दिन रहेगा स्थानीय अवकाश, डीएम ने किया घोषित…

भगवती और भानु की सफलता इच्छाशक्ति और दृढ़ संकल्प की शक्ति का प्रमाण है। उन्होंने एक अवसर देखा, आवश्यक संसाधनों का लाभ उठाया और अपने उद्यम को सफल बनाने के लिए प्रयास किये। यह केवल उपलब्ध सरकारी योजनाओं और पहलों के बारे में नहीं है, बल्कि इन अवसरों का अधिकतम लाभ उठाने की व्यक्तियों की मानसिकता और प्रेरणा के बारे में भी है।

यह भी पढ़ें 👉  आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद हुई ये कार्रवाई, शराब और कैश सीज…

भगवती और भानु जैसे व्यक्तियों की सफलता को सुविधाजनक बनाने में सरकारी पहल की भूमिका को कोई नज़रअंदाज़ नहीं कर सकता। सहकारिता मंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने किसानों के लिए शून्य प्रतिशत ब्याज दर पर ऋण नीति लागू करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। यह नीति कई व्यक्तियों के लिए फायदेमंद साबित हुई है, जिससे उन्हें वित्तीय सहायता के साथ अपने कृषि उद्यमों को आगे बढ़ाने में मदद मिली है।

दीनदयाल उपाध्याय किसान कल्याण योजना एक सरकारी योजना का एक और उदाहरण है जिसका महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा है। छह वर्षों की अवधि में, 855579 किसान शून्य प्रतिशत ब्याज पर ₹4835.34 करोड़ की राशि का ऋण प्राप्त करने में सक्षम हुए हैं। इन पहलों का उद्देश्य व्यक्तियों को सशक्त बनाना और उन्हें उनके चुने हुए क्षेत्रों में सफलता प्राप्त करने के साधन प्रदान करना है।

यह भी पढ़ें 👉  देहरादून-बंगलूरू के बीच विस्तारा की सीधी फ्लाइट शुरू, जानें शेड्यूल…

भगवती और भानु का मामला इच्छाशक्ति और सफलता के बीच संबंध का एक प्रमुख उदाहरण है। सरकारी योजनाओं के समर्थन के साथ उनके दृढ़ संकल्प ने कीवी खेती में उन्हें सफलता दिलाई है। व्यक्तियों के लिए यह आवश्यक है कि वे अपने लिए उपलब्ध अवसरों को पहचानें और उनका अधिकतम लाभ उठाने के लिए सक्रिय कदम उठाएं। अंततः, सफलता उन लोगों की पहुंच में है जिनके पास इच्छाशक्ति है और इसे आगे बढ़ाने की इच्छा है

Latest News -
Continue Reading
Advertisement

More in उत्तराखंड

उत्तराखंड

उत्तराखंड

ट्रेंडिंग खबरें

To Top